28-yr-old IAS officer ties the knot at mass marriage function

A young sub-divisional magistrate (SDM) of the tribal district of Narmada made a social statement on the bank of Hathmati river in Sabarkantha’s Bhiloda taluka as he took wedding vows with 22-year-old schoolteacher, along with 34 other couples at a community wedding held on Tuesday.

The IAS officer, Vijay Kharadi, 28, tied the knot with Seema Garasia, along with other tribal couples, a dozen of them falling below poverty line (BPL), at the function.

Kharadi, a native of tribal-dominated Khedbrahma taluka in Sabarkantha and currently posted as SDM in Rajpipla of Narmda district, belongs to Dungri Garasia tribe.

He shares his wedding date with at least 12 other couples who will be eligible for the government’s “Kunwarba nu mameru” scheme as they fall in the BPL category.

Under this scheme, girls from Schedule Caste and Schedule Tribe get about Rs 10,000 as an assistance from the state government if they get married in mass weddings, while as an incentive the beneficiaries (couples) of such marriages are also entitled to get Rs 10,000.

Soon after becoming an IAS officer in 2009, Kharadi was flooded with marriage proposals from influential families.

However, his parents fixed his marriage with Seema Garasia, a schoolteacher in Bhiloda.

Kharadi chose to get married in a mass wedding to set an example before his community that the marriage of an IAS officer need not be flashy.

Kharadi became a hero of sorts as thousands of his tribe thronged the marriage venue, the guests including Inspector General of Police (border range) V M Pargi, Patan Superintendent of Police M S Bharada, Khedbrahma Congress MLA Ashwin Kotwal and Bhiloda Congress MLA Anil Joshiara, among others.

“We feel privileged to have an IAS officer be one of the grooms in the mass marriage. We started organising such weddings four year ago in order to curb the rising expenses on extravagant marriages. Today’s children are influenced by their urban counterpart. To meet their demand, the parents borrow money on high interest which has become a social evil,” said N D Joshiara, a member of Shri Dungari Garasia Vikas Trust that organised the wedding.

He said the trust started organising mass marriages with 3 couples four years ago which rose to 35 couples only this year.

According to Joshiara, next year there will be more than 60 such couples. He said the trust is mostly run by retired government officers including him who retired as a director, Industrial Safety and Health, state government.

On Wednesday, Kharadi will throw his wedding reception in which several high-profile officials including his colleagues are expected to attend.Courtesy:IndianExpress.

श्रीमान विजय खराडी ने एक आईएएस होते हुए भी गरीब आदिवासियों के लिए आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में एक साधारण्‍ घर की लडकी से विवाह रचा कर लाखों लोगों के हृदय पर विजय का पताका पहरा दिया है। ऐसे होनहार और नेक दिल इंसान पर हर आदिवासी को गर्व होगा। उन्‍होने समाज को एक नई दिशा, नई सोच और नया रास्‍ता दिखाया है।

हम आजाद देश के मूल निवासी हैं, लेकिन विकास के पथ में आगे बढता इस देश में हमारी माली हालत ज्‍यो के त्‍यों है और देश के अनेक भागों में हम प्रतिकुल परिस्थितियों से दो-चार होते हुए आर्थिक रूप से और भी गरीब होते जा रहे हैं। जो मुट्ठी भर लोग सुअवसरों के बल पर आगे बढ रहे हैं, माली हालत सुधरते ही अपने समाज, रीति-रिवाज और आदिवासीयत से दूर चले जाते हैं। छोटी-मोटी नौकरी प्राप्‍त लोगों के तेवर भी बदल जाते हैं। जो उच्‍चाधिकारी बनते हैं, उनकी तो चाल-ढाल में रातों-रात मुक्‍कमल परिवर्तन आ जाता हैं। मैं कई लोगों को जानता हूँ जो अच्‍छी नौकरी लगते ही खुद पहल करके गैर-आदिवासी लडकियों या लडकों से विवाह रचा लिए हैं। हम किसी के व्‍यक्तिगत पसंद न पसंद पर चर्चा तो नहीं कर सकते हैं। लेकिन यह जरूर कहा जा सकता है कि गरीब और संघर्षरत आदिवासी समाज में इसका गलत और नकारात्‍मक प्रभाव पडता है। कमसिन युवा अपने सामाजिक हैसियत को इन घटनाओं से परिपेक्ष्‍य में देखते हैं और समाज को कमतर समझ बैठते हैं और उनके मन पर आदिवासीयत के लिए प्‍यार, सम्‍मान, गर्व की जगह हिकारत पैदा होता है।

एक गरीब और संघर्षरत समाज को मानसिक प्रोत्‍साहन की बहुत आवश्‍यकता होती है। शिक्षित और विचारवान लोगों के प्रशंसनीय कार्यों से अपने समाज को मजबूती मिलती है, अच्‍छे कार्य से ही यह महान कार्य हो सकता है। लेकिन शिक्षित युवा आदिवासी समाज से कई तरह से कट जाते हैं। आदिवासी कल्‍चर, भाषा, पर्व-त्‍यौहार, धर्म-रीति-रिवाज, गीत-संगीत और क्षेत्र आदि से नौजवान कटते जा रहे हैं और इसी का प्रतिफल है कि शिक्षा का प्रसार होते हुए भी पलायन के कारण स्‍थानीय समाज में शिक्षा का दीपक निरंतर प्रकाशवान नहीं रह पाता है। उच्‍च शिक्षित विचारवान और चरितवान युवाओं के नैतिक बल से ही समाज का भला हो सकता है, यह सोच आज भी समाज में जड जमा नहीं पाया है। लेकिन समाज में विजय खराडी जैसे नवजवान भी हैं, जो उम्‍मीद के दीपक को जलाए हुए हैं। एक नौकरीपेशा ब्‍यूरोक्रेट से अधिक एक आदर्शवादी,  विचारवान इंसान के रूप में अपने को स्‍थापित करके उन्‍होंने एक उम्‍मीद की एक किरण बिखेर दिया है। श्री विजय को मधुबगानियार की ओर से हार्दिक बधाई। उनका दाम्‍पत्‍य जीवन और समाज सेवा की भावना फलिभूत हो भगवान से यह प्रर्थाना है।

Advertisements

Author: madhubaganiar

Madhubaganiar loves to write on social issues especially for downtrodden segment of Indian society.

I am thankful to you for posting your valuable comments.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s