छोटानागपुर का सबसे बड़ा ख़जाना

                                                                                                                नेह अर्जुन इंदवार,                                                 साभार- निरंग पझरा, एक सम्‍पूर्ण आदिवासी पत्रिका
सन् 2001 की बात है ।मैं अपने मित्र जमादार गोडसोरा के साथ सुबह 4 बजे भुवनेश्वर से राँची जाने के लिए मोटरबाइक से निकला । हम किसी विशेष काम से नहीं, बल्कि बाइक से रास्ते के आदिवासी गाँवों में जाकर वहाँ के लोगों से मिलना जुलना और बात करना चाहते थे । दोनों शहरों के बीच की 400 किलोमीटर की दूरी बाइक सवारी के लिए वाकई काफी लम्बी है । लेकिन हमारी मंजिल थी राँची । हम बहुत जोशिले और उत्साहित थे । कई वर्षो के बाद राँची जाना हो रहा था । दोस्तों से मिलने की खुशी और रास्ते के आदिवासी गाँवों में जाकर लोगों से खूब बातें करने की चाहत । करीबन 100 किलोमीटर जाने के बाद ही बडे़ आदिवासी गाँव दिखाई देने लगे । हम खेतों में काम करते लोगों के पास जाते और गोडसोरा ”हो“ में बात करते । और मुझे हिन्दी में बताते । चूंकि गाँववाले हिन्दी बोल व समझ नहीं पा रहे थे । मैं हिन्दी में बोलता और वह अनुवाद करके किसानों को ”हो“ में बताते । दशकों बाद किसानों से बातें हो रही थी । एक जगह कई महिलाएँ डियेंग (हँडिया) बेच रही थी । हम उनके पास गए और उनसे काम, घर परिवार और डियेंग बेचने के बारे बात करने लगे । वे अपने खेती-बारी, खेत-खलिहान और घर-परिवार की बातें बता रही थीं और मैं एक डायरी में नोट कर रहा था । उनके जीवन संघर्ष की बातें, पिछले कई दशकों में गाँवों में आए परिवर्तन को हम करीब से जान रहे थे । हम भुवनेश्वर जैसे दूर के शहर से आ रहे हैं यह जानकर वे हमारी थकावट को दूर करने के लिए डियेंग (हँडिया) पीने का अनुरोध किए । हमने मुस्कराकर कर धन्यवाद दिया कि अभी हमें बाईक से सफर करनी है डियेंग हमारे लिए भारी हो जाएगा । यह डियेंग चावल को पूरी तरह से मथ कर बनाया जाता है और उसमें चावल का अंश होता है । डियेंग पीने से पेट भर जाता है, इसका नशा बहुत असरदार होता है । अभी हम रास्ते के क्योंझर शहर नहीं पहुँचे थे और एक जंगल से गुजर रहे थे तभी एक कील बाइक के अगले पहिये में घुस गया । हमारे पास पैदल चलने के सिवा कोई चारा नहीं था । पठारी ऊँचाई पर धकेल कर बाइक ले जाना काफी थकावट भरा काम होता है । हम लतपत हो चुके थे । हम गुजरते ट्रकों से लिफ्ट मांगते लेकिन माल लदा ट्रक नहीं रूकता । बहुत चेष्टा के बाद एक खाली ट्रक आया और हम अपनी हीरोहोंडा उसमें लादने में कामयाब हो गए और क्योंझर आ गए । वहाँ पंक्चर ठीक किए और आगे बढ़ गए । लेकिन शहर से निकलने के बाद ही पेट में चूहे दौड़ने लगे । दोपहर के तीन बज चुके थे, पंक्चर के चक्कर में हम कुछ खाना ही भूल गए थे । हम कई ढाबों में गए लेकिन वहाँ की गंदगी और भिनभिनाती मक्खियाँ देखते ही मैं वहाँ खाने से इंकार कर देता । हमने बिस्कुट से काम चला लिया । हम झारखण्ड की सीमा में दाखिल हो चुके थे । झारखण्ड की मिट्टी को हमने माथे पर लगाया और प्रणाम किया । फिर हम आगे बढ़ गए । हम एक पेट्रोल पंप से पेट्रोल ले रहे थे तभी गोडसोरा का एक परिचित दिख गया । वह पास के एक गाँव से था । उसने अपने घर चलने का आमंत्रण दिया और हम उसके साथ हो लिए । उसने कहा खाना तो बन नहीं सकता है, लेकिन डियेंग मिल सकता है । हमने बिस्कुट खाया था इसलिए तुरंत कुछ खाने की आवश्यकता नहीं थी । परिचित जी ने हमें थोड़ा सा डियंेग का स्वाद लेने का अनुरोध किया । हमने थोड़ा सा डियेंग आलू के चखने के साथ लिया ।
चखना को चखने के बाद ही जैसे मुझ पर जादू सा छा गया । इतना स्वादिष्ट आलू ! मैं उनसे और आलू मांग-मांग कर लिया, पेट भरा होने पर भी काफी आलू खा गया । दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, भुवनेश्वर में मैंने वर्षो गुजारा है । हैदराबाद के आसपास के जिलों में हम बाइक से अक्सर घूमने जाते और वहीं तेलगु सीखने के लिए ग्रामीणों के घरों में खाना खा लेते थे । गुजरात के गाँवों में भी खुब घुमना हुआ है । महाराष्ट्र के अधिकतर जगहों पर जाना हुआ है । हर जगह के खास व्यंजनों को चखने का अवसर मिला है । लेकिन यहाँ तो आलू ने जैसे मंत्र ही मार दिया । आलू की वह सब्जी हमारे होस्ट ने कुछ मिनटों में जैसे-तैसे मर्दाना स्टाइल में सिर्फ डियेंग के साथ खाने के लिए बनाया था । पाक कला की कोई करामत नहीं अजमाई गई थी, न ही उसमें कोई मसाला डाला था सिर्फ हल्दी, नमक और मिर्ची से बना था वह नयाब सब्जी । मुझे एक ख़जाना मिल गया था । स्वादिष्ट आलू की वह एक प्रजाति है जो छोटानागपुर के गाँवों में ही मिलती है । दिन भर की थकावट छूमंतर हो चुकी थी । शायद यह डियेंग और उस जादुई आलू का असर था । हम पास के सप्ताहिक हाट में जा पहुँचे और वहाँ जाकर देखा जितना बड़ा हाट उतना बड़ा डियेंग का बाज़ार । लोग डियेंग के साथ अलग-अलग चखना खा रहे थे । हमने डियेंग का पैसा चुकाया लेकिन डियेंग को दूसरों को दे दिया और अलग-अलग सब्जी से बना चखना खाने लगे । वहाँ बेचे जा रहे चखना भी घर में बने आलू की तरह ही स्वादिष्ट थे । चखने का हर कौर हमारे लिए एक अनुभव था और हम उस अनुभव को ठूँसे जा रहे थे । जब हम हाट से निकले और काफी दूर चले गए तो पता चला, चखना खाने के रौ में मैं अपना डायरी वहीं भूल आया । मैंने जोर का ठहाका लगाया । गोडसोरा चैंक कर मुझे देखने लगा । क्या हो गया ? लेकिन असली डायरी तो मैं साथ लेकर आया हूँ । मैंने अपना जीभ उन्हें दिखाया । वह भी जोरदार ठहाके लगाने लगा । अब हम दोनों फिल्म शोले के जय और बीरू की तरह बाइक में गाना गाते हुए चलने लगे ।
इसी महीने पहली मई 2014 को संजय पहान की शादी में शरीक होने के लिए फिर से राँची जाना हुआ और कोलकाता वापसी से पहले मटिल दीदी को ढेर सारा सब्जी बाजार से खरीदवा लिया । कोलकाता आकर सबसे पहले बेंग साग की सब्जी बनवाया । वाह ! क्या स्वाद है । मेरे मुँह से निकला । सभी ने जी भर का बेंग साग का लुफ्त उठाया । वाकई में बहुत स्वादिष्ट था साग । डुवार्स में हम अक्सर बेंग साग खाते रहते हैं लेकिन छोटानागपुरी बेंग साग का स्वाद कमाल का था । हफ्ते भर राँची से लाई गई दूसरी सब्जियाँ भी बनती रही । कोई दिल को उसी तरह बाग-बाग करता रहा और कोई कोलकाता में मिलने वाली सब्जियों की तरह ही साधारण स्वाद वाली थी ।

एक ही हाट, बाज़ार में मिलने वाली सब्जियों के स्वाद में इतना फर्क क्यों होता है ? इसका मुख्य कारण खेत में उपयोग किया जाने वाला खाद है । बेंग साग उपजाने के लिए किसी खाद की जरूरत नहीं होती है, वह प्राकृतिक तरीके से उगती है, जबकि दूसरे सब्जियों के मामले में अधिक उपज के लिए किसान रासायनिक खाद अर्थात् फार्टिलाइजर आदि का उपयोग करता है । रासायनिक खाद उपज बढ़ाने में मदद तो करता है लेकिन वह जमीन के औषधीय और प्राकृतिक गुण को खत्म कर देता है । यह प्राचीन काल से विकसित हो रहे अन्न में उपस्थित गुणों के तत्वों में बदलाव कर देता है । हर जगह की धरती के ऊपरी परत की मिट्टी अलग-अलग होती है । उस मिट्टी में अलग-अलग वनस्पति उगते हैं, पनपते हैं और हर जगह के वनस्पति में उस जगह विशेष की मिट्टी की सुगंध और औषधीय गुण रची बसी होती है । यही अन्न उस खास जगह के मनुष्य के लिए स्वास्थ्यकर होता है और वह कालांतर में उस जगह के निवासियों के लिए औषधि का काम करता है । प्राचीन काल से छोटानागपुर की धरती पर रहने वाले आदिवासी यहाँ के एक-एक कण, एक-एक पत्त्ेे से परिचित हैं और वे यहाँ की धरती पर हमेशा खुशहाल, चैनशील और स्वस्थ रहे हैं । सौ-सौ साल तक मजबूत और स्वस्थ रहने वाले आजा, नाना की यादें अभी भी ताजी है । टाना भगत आंदोलन के दौरान नगर ठिठाईटांगर के फागू भगत, टैक्स के बारे जानने के लिए राँची के कलेक्टर से मिलने के लिए सिसई से पैदल आए थे । वे कई दिनों तक रोज कलेक्टरेट जाते और कलेक्टर से बातें करने का अनुरोध करते, लेकिन कलेक्टर ने उनकी ओर आँख उठा कर भी देखने की जहमत नहीं उठाई । नाराज़ होकर फागू भगत ने ‘‘कलेक्टर साहेब हमसे बात कीजिए’’ कहते हुए आॅफिस में प्रवेश करते ही कलेक्टर की बाँह पकड़ ली । उनके बाॅडीगार्डस् फागू भगत के हाथों के बंधन छुड़ाने के लिए पूरा जोर लगा दिए, लेकिन छुड़ा नहीं पाए । डर के मारे कलेक्टर ने उससे बात करना स्वीकार किया और तुरंत टाना भगतों के खेतों के लगान को माफ करने की घोषणा कर डाली । यह किस्सा हम फागू भगत जिन्हें हम आजा कहते थे के जुब़ान से ही सुने थे, तब उनकी उम्र एक सौ दस वर्ष थी और तब भी वह अपनी चार वर्षीया नातीनी मनीर को गोदी लेकर गाँव की सैर करते थे ।
तब उनके जैसे न जाने कितने आजा और नाना लम्बी उम्र के साथ-साथ स्वस्थ शरीर के भी मालिक होते थे और जिंदगी का भरपूर आनंद लेते थे । यह स्वास्थ्य इक्का-दुक्का व्यक्तियों की नहीं हुआ करती थी, बल्कि समाज की नब्बे प्रतिशत से अधिक आबादी ऐसे ही स्वास्थ्य का आनंद उठाती थी । सुबह की प्रथम लाली के साथ ही बिस्तर से उठ जाना, दिन भर जी-तोड़ शारीरिक मेहनत करना और छोटानागपुर के मिट्टी पर उपजे साधारण, लेकिन प्राकृतिक स्वाद और गुणों से लबालब अन्न खाना और शाम ढलते ही अखरा में गीत-नृत्य में तल्लीन हो जाना । यही दिनचर्या था आदिवासियों के पुरखों का । कहीं कोई अस्पताल, चिकित्सालय नहीं था । जो भी था वह था होड़ोपैथी, जो आदिवासियों के परंपारिक ज्ञान पर आधारित था । यह ज्ञान भी अधिकतर छोटानागपुर की वादियों में मिलने वाली वनस्पतियों पर ही आधारित था । और यह वनस्पति छोटानागपुर की मिट्टी की पैदाइश होती थी । बात आती है यहाँ की मिट्टी की । यह मिट्टी ही यहाँ के वनस्पति, अन्न को दुनिया का बेहद स्वादिष्ट और स्वास्थ्यकर वनस्पति, अन्न बनाता है ।
लेकिन आधुनिकता का अंधानुकरण किए जाने के कारण छोटानागपुर की प्राचीन मिट्टी की गुणवत्ता खत्म हो जा रही है । खेतों को जोत कर व्यवस्थित ढंग से उगाए जाने वाले फसल के लिए रासायनिक खाद का प्रयोग करने के कारण यहाँ की मिट्टी की उर्वरता और स्वास्थ्यकर प्राकृतिक ग ुण समाप्त होने को है । साग-सब्जियों, मोटे चावल-दाल आदि के खेती के लिए किसानों द्वारा उपयोग किए जा रहे रासायनिक खाद पर उपयोग संबंधी कोई नियंत्रण नहीं है । यह यहाँ की जादुई मिट्टी पर भी बेरोक-टोक, अंधाधुंध प्रयोग किया जा रहा है । समाज में इस विषय पर कोई पहल नहीं की गई है । जहाँ कहीं रासायनिक खाद का प्रयोग नहीं हुआ है वह मिट्टी और उस पर उपजे वनस्पति की गुणवत्ता, स्वाद और नस्ल बची हुई है । यही कारण है कि बेंग साग अत्यंत स्वादिष्ट लगता है, लेकिन सभी सब्जी दिल को जीत नहीं पाते हंै ।
यह एक अत्यंत गंभीर और महत्वपूर्ण विषय है, जिस पर समाज और सरकार को तुरंत कदम उठाने की जरूरत है । छोटानागपुर के गर्भ में अनेक खनिज पदार्थ पाए जाते हैं, जो कालांतर में सरकार और बड़ी कंपनियों द्वारा खनन करके निकाल ली जाएगी । लेकिन यहाँ के मिट्टी की रक्षा, सुरक्षा और जतन किया जाए तो यह युगानुयुग यहाँ के निवासियों के स्वास्थ्य की रक्षा करेगी ।
यहाँ की मिट्टी को बचाने का उपाय क्या है:- छोटानागपुर सहित पूरी दुनिया में प्राचीन काल से ही जैविक खेती-बारी की जाती रही है । लेकिन बढ़ती आबादी के कारण अधिक अन्न उपजाने के लिए अविष्कार और विकसित किए जानेे वाले रासायनिक खाद और जहरीले कीट नाशक धरती की उर्वरता को ही निगल जा रही है, और यह आज किसानों को एक ऐसी चक्र में फांस चुकी है जिससे निकलने के लिए पूरी दुनिया में कोशिशे जारी है । रासायनिक खाद बनाने और बेचने वाले उद्योग रोज इसके गुणवत्त का बखान करती है, लेकिन यह न सिर्फ खेतों को अनुपजाऊ बना रही है, बल्कि प्राकृतिक रूप से मिट्टी में पाए जाने वाले तत्वों को नष्ट कर रही है और इस रासायनिक खाद से उपजा अन्न पूरी आबादी को प्रभावित कर रहा है । यही कारण है कि स्वास्थ्य के प्रति जागरूक पश्चिमी देश आज रासायनिक खाद और जहरीले कीटनाशकों से परहेज कर रहे हैं और जैविक अर्थात् आॅर्गानिक खेती की ओर रूख कर रहे हैं । आॅर्गानिक खेती-बारी की पद्धति न सिर्फ मिट्टी के प्राकृतिक तत्वों को बचा कर रखती है, बल्कि यह जल, वायु तथा वातावरण को भी प्रदूषितरहित रखती है । यह प्राकृतिक चक्र अर्थात् इकाॅलाॅजी सिस्टम को भी बचाए रखती है । यह प्राचीन काल से मानव और प्राकृतिक के बीच स्थिर संतुलन और संबंध को नष्ट नहीं करती है ।
शहरों के बाज़ारों में आजकल जैविक अन्न अर्थात् आॅर्गेनिक फूड की बहुत मांग है और यह सामान्य खाद्य पदार्थों से दुगुणे दाम पर बिकता है । विदेशों में आज कल इसी खेती पद्धति की धूम मची हुई है । उच्च आय वर्ग के ग्राहक सिर्फ आॅर्गेनिक फूड ही खरीदना पसंद करते हैं, क्योंकि ये जहरीले रासायनिक खाद और कीटनाशक रहित होते है और स्वादिष्ट तथा स्वास्थ्यकर होते हैं । छोटानागपुर की मिट्टी जैसी मिट्टी दुनिया में बहुत कम हैं । यह आॅर्गेनिक खेती के लिए सर्वोत्त्म है । यही कारण है कि कुछ बाहरी कंपनियाँ यहाँ भूमि लेने के फिराक में रहती हैं । एक तो मिट्टी अनमोल ऊपर से क्या पता उस मिट्टी के नीचे सोना या हीरा भरा पड़ा हो । छोटानागपुर के किसान सिर्फ आॅर्गेनिक खेती करके ही मालामाल हो सकते हैं और यह अंतहीन उच्च आय का साधन बन सकता है । लेकिन इसके लिए किसानों को संगठित रूप से कार्य करना होगा । उन्हें व्यक्तिगत खेती-बारी से ऊपर उठ कर सामूहिक, संगठित और नियोजित तरीके से खेती-बारी करना होगा । आदिवासी कृषि काॅआॅपरेटिव इस तरह के कार्य बखुबी कर सकता है । संगठित होने पर ही इसके मार्केटिंग व्यय को उठाया जा सकता है । छोटानागपुर में इसकी मिट्टी ही सबसे बड़ा खजाना है और यह खजाना हर खजाने से बड़ा है । बस मिट्टी पर नजरें गड़ाकर इसे प्यार से हासिल करना होगा ।

Advertisements

Author: madhubaganiar

Madhubaganiar loves to write on social issues especially for downtrodden segment of Indian society.

1 thought on “छोटानागपुर का सबसे बड़ा ख़जाना”

  1. आपने बहुत अच्छा संदेश दिया है। काश लोग इसे समझ पाते।

I am thankful to you for posting your valuable comments.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s